मंगल का प्रभाव। 

मंगल गृह का हमारे जीवन में एक बहुत बड़ा महत्त्व है। लाल किताब के अनुसार यदि मंगल गृह की परिभाषा दी जाए तो उन लोगो का मंगल गृह ख़राब होता है जिनकी यारी दोस्ती बेहद कम होती है या अपने ही भाइयो से नहीं बनती। यदि इंसान अपने ही भाई बंधुओ में और दोस्तों में कमिया निकलता रहे तो यह भी मंगल की खराबी देता है। मंगल के खराब होने की एक यह भी बहुत बड़ी निशानी होती है की घर के सामने कोई खाली गन्दा प्लाट हो या कोई मैदान जहा धूल मिटटी उड़ती हो। घर में किसी ख़ुशी के बाद बड़े दुःख का आना, दोस्तों का सुख न मिलना, छोटी छोटी चीज़ो में कमिया निकालना, बहुत जल्दी गुस्सा हो जाना, यह सब दर्शाता है की आपकी कुंडली में मंगल देव अपनी खराबी पर है। 

अब तक हमने बात की परेशानियों की परन्तु परेशानिया तो आप जानते भी है और झेल भी रहे है। अब हम आपको बताते है लाल किताब के कुछ ऐसे उपाय जो आपके लिए संजीवनी बूटी से कम नहीं होंगे। 

मंगल के उपाय। 

1. घर के आस पास नीम, कीकर, बेरी या पीपल का पेड़ ना हो। 
2. घर में तंदूर ना रखे। 
3. अपने तन पर ज़्यादा से ज़्यादा मात्रा में चंडी धारण करे। 
4. घर में भूल कर भी कोई हथ्यार ना रखे। 
5. भाइयो व मित्रो का साथ बनाये व उन्हें हर मंगलवार को कुछ मीठा खिलाये। 

आप बस यह 5 उपाय करके देखे ज़्यादा नहीं तो केवल एक साल में भाइयो में प्रेम भी होगा, शरीर में उठने की ताकत भी होगी और काम काज में बढ़ोतरी भी होगी। ध्यान रखे लाल किताब के अनुसार जो गृह आपकी कुंडली में खराबी पर है उन ग्रहो के मालिक यानि भगवान् की आराधना ना करे। बल्कि उन ग्रहो से सम्बंधित वस्तुओ का दान करे।